राजस्थान

राजस्थान विधानसभा: पुरानी पेंशन योजना और शीतलहर से नुकसान का मुद्दा उठा, पहला बिल रखेंगे सचिन

हिन्दुस्तान पत्रिका/जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट

================================================

जयपुर. विधानसभा के छठे दिन की कार्यवाही प्रश्नकाल के साथ शुरू हुई। इस दौरान पुरानी पेंशन योजना का मुद्दा उठा। वहीं शीतलहर से फसलों को हुए नुकसान और बाड़ी बायपास की मांग भी रखी गई। जिसके जवाब संबंधित मंत्रियों ने दिए। वहीं सचिन पायलट ने नरेगा से संबंधित आंकड़े भी सदन में पेश किए। 

शीतलहर से फसल नुकसान का मुद्दा उठा

प्रश्नकाल के दौरान बाड़ी विधायक गिरिराज मलिंगा ने बायपास बनाने की मांग सदन में रखी। जिसका जवाब देते उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि बायपास बनाने की एक प्रक्रिया होती है। इसके हर पहलू पर विचार किया जाएगा। इसके साथ शीतलहर से फसलों को हुए नुकसान पर भी सवाल किए गए। जिसका जवाब देते हुए मंत्री मास्टर भंवरलाल ने कहा कि टोंक और झालावाड़ के कुछ तहसीलों से खराबी की जानकारी मिली है। जो की 25 फीसदी से कम है।

मंगलवार को  सीएम अशोक गहलोत के 9 विभाग, उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के पांच विभाग, बुलाकीदास कल्ला के 4 विभाग, शांति धारीवाल के तीन विभाग, परसादीलाल के 2 विभाग, मास्टर भंवरलाल के 2 विभाग, लालचंद कटारिया के 3 विभाग, रघु शर्मा के 4 विभाग, प्रमोद जैन भाया के 2 विभाग, प्रतापसिंह खाचरियावास के 2 विभागों से संबंधित सवाल पूछे जा सकेंगे।

पहला बिल सचिन रखेंगे 

15 वीं विधानसभा के पहले सत्र का पहला बिल प्रभारी मंत्री सचिन पायलट रखेंगे। पंचायती राज संस्थाओं में चुनाव लड़ने के लिए शैक्षणिक योग्यता खत्म करने के लिए पंचायती राज संशोधन विधेयक 2019 पायलट द्वारा रखा जाएगा। इसका पूरी चर्चा के बाद संभवतया मंगलवार को ही अनुमोदन कर दिया जाएगा। 23 जनवरी को एक साथ तीन संशोधन विधेयक लाए जाएंगे। 

Written By

DESK HP NEWS

Hp News

Related News

All Rights Reserved & Copyright © 2015 By HP NEWS. Powered by Ui Systems Pvt. Ltd.

BREAKING NEWS